इस महिला पुलिस के जज्बे को सलाम, कड़ी धूप में “कोरोना” से जीतने का दिया संदेश

News Josh: कोरोना का संकट दुनियाभर में आग की तरह फैलता ही जा रहा है. हालाँकि मोदी सरकार ने इस वायरस से जनता को बचाने के लिए 3 मई तक का लॉकडाउन घोषित किया है लेकिन इसके बावजूद भी यह खतरा थमने का नाम नहीं ले रहा. बता दें कि कोरोना भारत में अब तक 21 हज़ार लोगो को अपनी चपेट में ले चुका है. जिसमे से कुछ लोग रिकवर भी हुए हैं और कईं लोग अपनी जान भी गँवा चुके हैं. ऐसे में इस वायरस के बचने के लिए सरकार और पुलिसकर्मी आये दिन जनता की सेवा के लिए जुटे हुए हैं. कोरोना वायरस के प्रभाव को रोकने के लिए जागरूकता अहम भूमिका निभा सकती है इसी के चलते देश के सभी पुलिसकर्मी इस लड़ाई में जीतने के लिए निर्णायक रोल निभा रहे हैं.

जहाँ हम सभी लोग अपने घरों में बैठ कर आराम कर रहे हैं, वहीँ देश के सभी पुलिसकर्मी कड़ी धूप में सड़कों पर तैनात हैं ताकि वह इस खतरे की घड़ी में हमे बचा पाएं. वहीँ कुछ लोग इस कड़ी डयूटी और तनाव के बीच में बढ़ चढ़ कर सामने आ रहे हैं और लोगो तक कोरोना से जीतने का संदेश पहुंचा रहे हैं. हाल ही में एक महिला पुलिसकर्मी की तस्वीर को सोशल मीडिया पर साझा किया गया है. जिसकी प्रशंसा हर कोई करता नजर आ रहा है. लोग इस महिला के ज़ज्बे को सलाम कर रहे हैं. कड़ी धूप और वायरस के तनाव में ड्यूटी कर रही यह पुलिस मैडम लोगों को तस्वीर के ज़रिये एक संदेश पहुंचा रही हैं.

यह संदेश महिला पुलिस अधिकारी ने झज्जर की अनाज मंडी में गेंहू के दानों की मदद से आम लोगों तक पहुँचाने का प्रयास किया है. साथ ही वह तस्वीर के ज़रिये किसान भाइयों को सोशल डिसटेंसिंग के प्रति जागरूक करती दिखाई दे रही हैं. महिला पुलिस अधिकारी का कहना है कि उनकी डयूटी इन दिनों झज्जर की अनाज मंडी में लगाई गयी है. लेकिन जिस तरह से देश भर के लोग संकट के साये में आये हुए हैं, ऐसे में हम सभी का कर्तव्य बनता है कि आगे बढ़ कर लोगों को इस वायरस के प्रति जागरूक करें और साथ ही सोशल डिसटेंसिंग का पूरा ख्याल रखें.

बता दें कि हाल ही में देश भर में पृथ्वी दिवस मनाया गया था. इस मौके पर झज्जर मंडी में डयूटी पर तैनात एक महिला पुलिस अधिकारी ने मिट्टी पर “गो कोरोना” का चित्र बनाया और लोगों को जागरूकता प्रदान की. उन्होंने गो कोरोना के इस चिन्ह को बनाने के लिए मंडी से ही गेंहू के दानों को लिया था. इन दानों की मदद से वह वहां मौजूद सभी किसानों को सोशल डिसटेंसिंग के मायने समझाती हुई नजर आई.

WhatsApp chat
WhatsApp Group से जुड़ें