बच्चे की तड़प ने इस माँ को किया मजबूर, तीन बार आइसोलेशन वार्ड से किया भागने का प्रयास

(News Josh) कोरोना का बुरा साया इन दिनों देशभर में तबाही मचा रहा है. आये दिन Covid-19 के मामले बढ़ते देखे जा रहे हैं. ऐसे में लोगों की चिंता इस विषय में और भी दुगुनी हो गई है. वहीँ दूसरी ओर फतेहाबाद की 26 वर्षीय महिला को हाल ही में एक सरकारी अस्पताल में क्वारैंटाइन किया गया था. यह महिला अपने 2 साल के बच्चे के लिए इस कदर तड़प रही है कि अभी तक तीन बार अस्पताल से भागने की कोशिश कर चुकी है. बता दें कि यह महिला असम की रहने वाली थी लेकिन 12 मार्च को फतेहाबाद के मंदोरी गाँव में पायी गई. जिसके बाद उसे गाँव की पंचायत द्वारा स्वास्थ्य विभाग को सौंप दिया गया. इस महिला की बोली असमी है इसलिए उसकी बातचीत समझने के लिए उनकी भाषा के व्यक्ति से उनकी बात करवाई गई जिसके बाद पता चला कि उसका बच्चा फिलहाल असम में ही है.

पहले भी सह चुकी है ज़ुल्म

जब असमी भाषा के ट्रांसलेटर से महिला की बात करवाई गई तो कईं हैरान करने वाले तथ्य सामने आए. उसने बताया कि उसके पति और बच्चा दोनों असम में हैं. 11 मार्च को एक ट्रक ड्राईवर ने उसको सिरसा पहुँचाया था जिसके बाद वह मंदोरी चली गई. जब गाँव के ग्रामीणों ने अनजान महिला को देखा तो उन्होंने तुरंत इसकी सूचना सेहत विभाग को दी. महिला ने बताया कि वह इससे पहले भी ज़ुल्म सहती आई है. उसके अनुसार उसे 20 लाख रूपये में बेच दिया गया था और वहां से भागती हुई वह हरियाणा पहुँच गई थी.

बच्चे की तड़प से है बेहाल

दैनिक भास्कर कि एक रिपोर्ट के अनुसार इस महिला को फिलहाल मंदोरी के ही एक सरकारी अस्पताल में आइसोलेशन पर रखा गया है. अस्पताल के डॉक्टर हनुमान के अनुसार हाल ही में इस महिला को कोरोना टेस्ट के बाद क्वारैंटाइन किया गया था जिसके बाद अब उसकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है. लेकिन किन्ही सुरक्षा कारणों के चलते महिला को अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में ही रखा गया है. लेकिन बीते दिनों इस महिला ने आइसोलेशन वार्ड में लगे एग्जॉस्ट फैन के होल के ज़रिये वहां से भागने की कोशिश की जोकि फेल हो गई. इसके बाद भी उसने दो और बार वहां से भागने का प्रयास किया. वहीँ डॉक्टर्स के अनुसार महिला का बच्चा अभी केवल 2 साल का है इसलिए वह उसको मिलने के लिए बेहाल हो रही है और लगातार भागने की कोशिश कर रही है.

 

WhatsApp chat
WhatsApp Group से जुड़ें